जाने क्यों कहते हैं बजरंगबली को “हनुमान”?

0
256

why-go-to-bajrangbali-says-hanuman
राजा दशरथ ने पुत्र की प्राप्ति हेतु यज्ञ काआयोजन किया गया था। और इसी यज्ञ से अग्नि देव प्रकट हुए तथा प्रसन्न होने के तत्पश्चात राजा दशरथ की पटरानियों को प्रसाद के रूप में खीर दिया। राजा दशरथ की सभी रानियों सहित तप करने वाली अंजनी को अर्थात मारुति की माता जी को भी प्रसाद मिला। यही कारण है की अंजनी को एक पुत्र की प्राप्ति हुई।



ये भी पढ़े :

पराशक्तियों से बचाना है अपने घर को तो ये 3 टिप्स आजमाएं
आरती के बाद भगवान शिव के इस मंत्र का जाप किया जाता है क्यों ?




उसी दिन चैत्र पूर्णिमा भी थी। इसी वजह से उस दिन को हनुमान जयंती के रूप में भी मनाया जाता है ओर जन्म के समय ही उदीयमान सूरज भी देखा जिसे देख तथा फल समझकर, उन्होंने सूर्य की दिशा में उड़ान भरी। तभी उस समय सूर्य को निगलने हेतु राहु भी वहां पहुचे। तब इंद्रदेव मारुति को ही राहु समझ बैठे ओर मारुति ओर हथियार फेंका जोकि मारुति यानि हनु की ठोढी पर जा लगा जिस वजह से उनकी ठोढी कट गई। तब से उन्हें हनुमान नाम प्राप्त हुआ।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! हर पल अपडेट रहने के लिए Subscribe करे!